World Famous

Bharat Ke Rahasymai Mandir Shri Padmnabh Swami Ka Khajana



Hi Friends 👦👦 ,


                               दोस्तो आज का आर्टिकल बहुत ही खास है आप सभी के लिये , क्योंकि हम भारत मे रहकर भी इन रहस्यमयी मंदिरों के खजानों के स्थानों को नही जानते ,

जी हाँ friends मैं बात कर रहा हु , भारत में केरल राज्य के तिरुवनंतपुरम में स्थित श्री पद्मनाभस्वामी मन्दिर के बारे में ,
दोस्तो कुछ महीनों पूर्व इस मन्दिर के सातवें दरवाजे के खुलने को लेकर मीडिया और पूरे देश मे एक आश्चर्य का विषय बना हुआ था ,

Bharat Ke Rahasymai Mandir Shri Padmnabh Swami Ka Khajana
Bharat Ke Rahasymai Mandir Shri Padmnabh Swami Ka Khajana


लेकिन दोस्तो उनमे भी आपको वो रहस्य नही बताए गए होंगे जो मैं आपको यहाँ अपने इस आर्टिकल में बताऊंगा ,

दोस्तो ऐसे तो कई मन्दिर और जमीन में दबे खजानों को ढूंढना अभी बाकी है ,

लेकिन श्री पद्मनाभस्वामी के मन्दिर और उसके उन रहस्यमयी द्वारों के बारे मे जानना भी अभी बाकी है ।।

दोस्तो इस मन्दिर में भगवान विष्णु की शयनमुद्रा में बहुत ही बड़ी और प्राचीन मूर्ति विराजमान है , यहाँ सोने के आभूषणों का भण्डार मिला है,

और इसमे अभी तक जो द्वार खोलकर खजाना मिला है वो कई हजारो करोड़ का सामने आया है , और इसके सातवें द्वार में और कितना खजाना होगा ये कोई नही जानता ,

दोस्तो हम उस सातवें द्वार की भी बात यहाँ करेंगे , लेकिन उससे पहले इस पुण्य मन्दिर का इतिहास जान लेते है ,

दोस्तो अभी तक के उल्लेख से पता चलता है कि इस मन्दिर का निर्माण त्रावणकोर के राजाओं ने करवाया था ,
और इस मन्दिर का उल्लेख 9 वी सदी के मन्दिरों में भी आता है ,

 इसके बारे में जब कुछ लोगों ने यह सुना कि यहाँ बहुमूल्य रूप और बहुत ही बड़ा खजाना छुपा है ,
तो लोगों ने उन 7 द्वारों के पीछे छिपे खजाने को जानने के लिये कोर्ट में याचिका दायर की ,

उनमे टी.पी.सुंदरराज भी थे जो की भारतीय इंटेलीजेंस ब्यूरो के अधिकारी और इस मंदिर के भक्त भी है ,

दोस्तो कोर्ट द्वारा आदेश दिया गया कि 7 सदस्यों की निगरानी टीम बनाई जाएगी जिनके निर्देशन में श्री पद्मनाभस्वामी के मन्दिर गर्भगृह के उन 7 सातो दरवाजों को खोला जाएगा , और जिसका पूर्ण राशि आँकलन भी किया जाएगा ,

दोस्तो टीम द्वारा पहला द्वार खोला गया , क्योकि वो एक बहुत ही बड़ा कक्ष था और इतने वर्षों बाद खोला गया था तो उसमें दूषित वायु ज्यादा थी जिसे मशीनों द्वारा साफ किया गया और फिर उस गर्भगृह में रोशनी भी की गई ,

जब उस कक्ष में पड़े हुए हीरे और जवाहरातों को टीम ने देखा तो उनके आश्चर्य का कोई ठिकाना नही था , दोस्तो वहाँ कई सारी प्योर सोने से बने गहने जो कि घड़े भरकर और दूसरे पात्रों में रखे हुए थे ,


वहाँ कई बड़े पात्रों में सिर्फ अलग से हीरे ही हीरे थे ,
कई सारे ऐसे जवाहरात थे जिन्हें आज की सदी के लोगो ने कभी देखा तक नही ,

दोस्तो श्री पद्मनाभस्वामी के उस मंदिर गर्भगृह में अथाह भण्डार शुद्ध सोने से बनी वस्तुओ के मिले और वो जिन पात्रों में मिले वो भी स्वर्ण के ही थे ,

 उन सभी अमूल्य चीजों की कीमत 1 लाख 32 हजार आँकी गई है ,
जिसमे कई महीनों का वक़्त लग गया था ,

दोस्तो बाकी के दूसरे द्वारों में भी काफी धन मिला था ,
और अब बारी आती है

सातवें द्वार की ::----

दोस्तो सातवें द्वारा को जब खोलने की बारी आई तो टीम को चेताया गया उन सभी बातों या घटनाओ से जो या तो हो चुकी थी या हो सकती थी ,

जी हाँ फ्रेंड्स , क्योकि ये एक आस्था का भी विषय है तो हर बात को सोच समझकर ही फैसला लिया गया ,
परन्तु विकट परिस्थिति ये थी कि ये दरवाजा आखिर खोला कैसे जाए ,

क्योकि पिछले सभी दरवाजों के बाहर उस द्वार को खोलने के लिये बड़ी बड़ी कुण्डिया लगी हुई थी , पर ये सातवाँ द्वार बिना कुंडी का है ,

इस सातवें द्वार पर गेट खोलने के लिये कुछ भी हैन्डल या हत्था मौजूद नही था ,

और सबसे बड़ी बात ये है कि इस दरवाजे पर 2 सर्प आकृति में लिपटे हुए दिखते है जो माना जाता है कि शेषनाग द्वारा इस सातवें द्वार की रक्षा कर रहे है ।

Bharat Ke Rahasymai Mandir Shri Padmnabh Swami Ka Khajana
Bharat Ke Rahasymai Mandir Shri Padmnabh Swami Ka Khajana


और कुछ लोगों का मानना है कि इस सातवें द्वार का खुलना अपनी मौत को स्वयं बुलाने जैसा है , क्योकि इन द्वारों को खुलवाने में जो याचिका कर्ता कोर्ट गए थे उनमें से एक कि संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो चुकी है ।

दोस्तो कहा जाता है कि ये अदभुत सातवाँ द्वार किसी मशीनी उपकरण या अन्य किसी वस्तु से नही खुलेगा ,

ये सिर्फ उसी सिद्ध योगी या महापंडित द्वारा खोला जा सकता है जो कि " श्री गरुड़ मन्त्र " का सही और स्पष्ट उच्चारण कर सकता हो ,

जी हाँ दोस्तो " श्री गरुड़ मन्त्र " कोई साधारण मन्त्र नही होता है , इसका सही से उच्चारण करना और उसे उसी लयबद्धता के साथ मंत्रित करना हर किसी के बस की बात नही है ,

लोग तो सिर्फ इस बात से ही डर जाते है , कि यदि उनसे उच्चारण में एक शब्द और वर्ण भी त्रुटि हो गई , तो उनकी मृत्यु होना निश्चित है ,

और इसी भय से कोई आगे नही आता ,
दोस्तो कोर्ट द्वारा सातवें द्वार को खोलने की अनुमति का इंतजार लोगों द्वारा किया जा रहा है ,

तब तक मन्दिर की देखभाल उन्ही राजाओं के वंशजों द्वारा की जा रही है जिन्होंने इस मन्दिर का निर्माण करवाया था ,

दोस्तो माना जा रहा है की इस गर्भगृह के सातवें द्वार में उन सभी छः द्वारों से भी अधिक खजाना मिलने की उम्मीद है , और वो खजाना हमारी सोच से भी परे होगा ,

क्योकि समय के गर्त में क्या छुपा होता है ये कोई नही जानता ,

इसी तरह इस सातवें द्वार में क्या और कितना छुपा है कोई नही जानता ,

दोस्तो कुछ लोग मानते है कि इस मन्दिर के खजाने को उसी स्थान पर रहने दिया जाए , ओर कुछ कहते है कि इसे जरूरतमंद लोगों और देश की भलाई के लिये इस्तेमाल किया जाए ,

अगर आप भी कोई राय देना चाहते है दोस्तो तो नीचे कमेंट करके हमे दे सकते है ,

दोस्तो आप नीचे दिए गए बॉक्स में ईमेल डालकर हमे सब्सक्राइब भी कर सकते है ,
जिससे आपको हमारे आने वाले ऐसे ही आर्टिकल की जानकारी ईमेल द्वारा आपको दे दी जाएगी ।



आपने समय निकालकर हमारे इस आर्टिकल को पढ़ा , उसके लिये धन्यवाद ...🙏🙏🙏...






Previous
Next Post »

Worlds Famous Person