World Famous

Bharat Ki Kuch Anhoni Rahasymai Ghatnaye



Hello Friends 🙏


                              दोस्तो आज मैं आपको हमारे देश भारत की कुछ ऐसी अनोखी घटनाओ के बारे मे बताऊंगा , जो ना तो आपने कभी सुनी और ना ही देखी होगी ,


दोस्तो ये भारत में घटी ऐसी घटनाएं हैं , जो कि किसी भी व्यक्ति को आश्चर्य में डाल सकती है ,

तो दोस्तो शुरू करते है इस रहस्यमयी शुरुआत को हमारे देश के राजस्थान राज्य के जोधपुर जिले की उस घटना से जिसने वहां के लोगों के साथ ही साथ वहाँ के आर्मी कैन्ट की आर्मी को भी सोचने पर मजबुर कर दिया ,

की आखिर ये आवाज कहां से आई ,

18 दिसम्बर 2012 जोधपुर बूम ::----

दोस्तो सुबह के करीब 11 बजे होंगे कि जोधपुर के लोगों ने कान के पर्दे हिला देने वाली एक आवाज सुनी ,

और ये आवाज जेट फाइटर प्लेन के सुपर सोनिक बूम की तरह थी ,

Bharat Ki Kuch Anhoni Rahasymai Ghatnaye
Bharat Ki Kuch Anhoni Rahasymai Ghatnaye


दोस्तो आपकी जानकारी के लिए बता दु की जब फाइटर प्लेन ध्वनि की गति से भी ज्यादा स्पीड में जाते है तो उससे जो आवाज उत्पन्न होती हैं उसे सोनिक बूम कहते है ,

परन्तु दोस्तो ये आवाज उससे भी कई गुना ज्यादा थी ,

जब इसका पता किया गया कि कहि आर्मी के गोला - बारूद में तो आग नही लगी तब वहां के स्पोक पर्सन कर्नल गोस्वामी ने बताया कि ऐसा कुछ भी हमारे यहाँ नही हुआ है ,

और जहाँ तक है फाइटर के सोनिक बूम की , तो आबादी वाले इलाकों के पास ऐसे हाई लेवल के सुपर फाईटर को उड़ने की परमिशन नही है ,

दोस्तो जब आर्मी ने भी साफ कर दिया कि उनकी तरफ से ऐसा कुछ नही हुआ है तो फिर ये आवाज आखिर आई कहा से ,


दोस्तो आपकी जानकारी के लिए मैं ये बता देता हूँ कि सिर्फ भारत ही नही बल्कि और दूसरे देश

जैसे ::---
 टैक्सास , यूनाइटेड किंगडम  और संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की भी कई जगहों पर दिसम्बर 2012 के ही इसी माह में अलग - अलग दिन सुनाई दी गई थी ,

क्योकि उस वक़्त दुनिया खत्म होने की अफवाह बड़ी तेजी से फैल रही थी ,

तो लोगों ने सोचा कि कहीं ये उसकी शुरुआत तो नही है ,
परन्तु दोस्तो ऐसा बिल्कुल नही था ,

दोस्तो वो आवाज आज तक एक पहेली ही बनी हुई है सभी लोगों के लिए ।।


लोनार झील ( महाराष्ट्र ) ::----

दोस्तो इस लोनार झील का निर्माण लगभग 50 हजार साल पहले एक उल्का पिंड के पृथ्वी पर गिरने से हुआ बताया जाता है ,

दोस्तो समय के चक्र के साथ ये गढ्ढा झील के रूप में परिवर्तित हो गया ,

दोस्तो सबसे बड़ी बात इस झील के पानी मे पाई जाती है और वो यह है कि इसमे ऐल्कलाइन वाटर और स्लाइन वाटर दोनों एक साथ पाये जाते है ,

दोस्तो वैज्ञानिकों का कहना है कि ऐल्कलाइन और स्लाइन वाटर कभी साथ मे नही रह सकते क्योंकि इन दोनों के गुण इसकी इजाजत नहीं देते ,

और सबसे बड़ी बात यहाँ कम्पास भी अपना काम करना बंद कर देता है , दोस्तो यहाँ कई खोजकर्ताओ ने काफी कोशिश की परन्तु कोई भी इस गुत्थी को नही सुलझा पाया है ,

दोस्तो जैसा कि मेरे कई आर्टिकल्स में आपको पृथ्वी की ऐसी विचित्र जगहों का उल्लेख मिलेगा , जहाँ विज्ञान भी फैल हो चुका है और वो कई ऐसे राज आज तक नही सुलझा पाये है ,


शीतला माता मंदिर , पाली ( राजस्थान ) ::---

                                                             दोस्तो शीतला माता का ये मन्दिर माता के चरणों के थोड़ा आगे रखे एक घड़े की चमत्कारी शक्ति के लिए प्रसिद्ध हैं ,

Bharat Ki Kuch Anhoni Rahasymai Ghatnaye
Bharat Ki Kuch Anhoni Rahasymai Ghatnaye


ये घड़ा 1/2 फिट चौड़ा और 1/2 फिट ही गहरा है ,

दोस्तो इस घड़े का चमत्कार ये है कि इसमें चाहे कितना भी पानी डालो ,

ये कभी भरता नही है , जी हाँ दोस्तो आपने सही सुना , ये घड़ा 800 वर्षों से चली आ रही इस परम्परा का साक्षी है ,
दोस्तो इस घड़े के ढक्कन को वर्ष में 2 बार खोला जाता है ,

पहला - शीतला सप्तमी के दिन ।।                              दूसरा - ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा को ।।

दोस्तो इन 2 दिनों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है ,
जिनमे से कई श्रद्धालु माता के इस चमत्कारी घड़े में अपने घड़े से पानी डालते है लेकिन ये सैकड़ो गैलन पानी घड़े से बाहर तक नही आता ,

परन्तु दोस्तो इससे भी बड़ा आश्चर्य तो तब होता है जब थोड़े से दूध को माता के चरण से छुआकर जब इस घड़े में डाला जाता है तो ये घड़ा तुरन्त ही भर जाता है ,

और फिर इस घड़े को बंद कर दिया जाता है ,


दोस्तो आश्चर्य की बात यह भी है कि कोई भी अनुसन्धान कर्ता या कोई भी वैज्ञानिक इस रहस्य को सुलझा नही पाया है ,
क्योकि दोस्तो भक्ति की शक्ति को कोई चेलेन्ज नही कर सकता ।।


एलिया घोस्ट लाइट्स , वेस्ट बंगाल :::----

                                                       दोस्तो वेस्ट बंगाल के दलदली इलाकों में इन रोशनियों को देखा गया है , ओर कहा जाता है कि इन्हें जो भी देखता है , वो व्यक्ति या तो मर जाता है या फिर पागल हो जाता है ,


दोस्तो इन लाइट्स का रहस्य कोई भी सही से उजागर नही कर पाया है , वहाँ के लोंगो का मानना है कि उन इलाकों में जो मछली पकड़ने वाले लोग है उनमें से जो किसी वक़्त पानी मे डूब जाने से मर जाते है ,

ये उन्ही मृत मछुआरों की आत्मायें है , जो कि इस तरह से रात में नजर आती है , और कुछ का कहना है कि ये रोशनियां उन्हें भविष्य में होने वाली अनहोनी के संकेत देती है ,

क्योंकि दोस्तो ऐसी रोशनी सिर्फ हमारे भारत मे ही नही बल्कि विदेशों में भी देखी गई है ।

दोस्तो साइंटिफिक रीजन इन घटनाओं का ये बताया गया है कि ये दलदली गैसे है जो मीथेन और ऑक्सीजन के साथ क्रिया करके रात में इस तरह से चमकती है ,



दोस्तो हमारा ये आर्टिकल आपको कैसा लगा , हमे कमेन्ट करके जरूर बताइयेगा ,


ओर हमारे से जुड़ने के लिये आप हमें नीचे दिए गए बॉक्स में ईमेल डालकर हमे सब्सक्राइब भी कर सकते है ,

जिससे आपको ईमेल द्वारा हमारे नये आर्टिकल की जानकारी मिल जाएगी ...


दोस्तो समय निकालकर आपने हमारे आर्टिकल को पढ़ा , उसके लिये धन्यवाद   ।। 🙏🙏🙏 ।।






Previous
Next Post »

Worlds Famous Person