World Famous

Brahmand Ki Sabhyataye Or Unke Rahasyamai Tathya




Hello Guys , 🤗🤗🤗


                                     क्या आप जानते है कि हमारी सभ्यताओं की तरह इस ब्रह्मांड में और भी कई सभ्यता है , जिसके बराबर हमे पहुँचना बाकी है ,

और दोस्तों उनके सामने अभी हम कहा स्टेण्ड करते है ? 

ये सभी प्रश्न और उनके उत्तर मैं आपको अपने इस आर्टिकल में बताऊंगा ,
और यहाँ आपको एलियन्स और हम अपनी सभ्यताओं में किस तरह से आगे या पीछे है ये तमाम जानकारी आपको यहाँ बताई जाएगी,

Brahmand Ki Sabhyataye Or Unke Rahasyamai Tathya
Brahmand Ki Sabhyataye Or Unke Rahasyamai Tathya


 शुरुआत करने से पहले मैं आपको कुछ स्टेज या स्टेप बता देता हूँ , जो कि उन सभ्यताओं के मानक होते है , जिससे वो कितनी उन्नत हुई है उसका हम पता लगा सकते है ,

दोस्तो 1964 में सोवियत के एक वैज्ञानिक निकोलाई कार्डिशेव ने इसको मापने का एक ऊर्जा स्केल बनाया है
जिसका नाम है  " द कार्डिशेव स्केल " 

दोस्तो इसके तहत सभ्यताओ को उनके ऊर्जा खपत से जोड़ा गया है , अब आप कहेंगे कि वो कैसे ?

तो दोस्तो निकोलाई ने कहा है कि जो जितनी विकसित सभ्यता होगी वो ऊर्जा का उतना ही उत्पादन या उसे इस्तेमाल करेगी ,

जैसे ::-- आप पृथ्वी की सभ्यता यानी हम लोगो को ही देख लो , हमारी सभ्यता को पृथ्वी पर 200000 साल ही हुए है ,
और हम आज इस स्टेज पर पहुँचे है ,
लेकिन क्या आज भी हम इतनी ऊर्जा उत्पादित कर रहे है जितनी होनी चाहिये ,
नही दोस्तो हम ऐसा नही कर पा रहे है ,

यानी उस हिसाब से हम स्टेज 1 की भी सभ्यता नही है , दोस्तो उस स्केल के हिसाब से स्टेज 1 की सभ्यता को अपने पूरे ग्रह की ऊर्जा का इस्तेमाल करना आना चाहिए , क्या हम ऐसा कर पा रहे है ? नही दोस्तो


स्टेज 1 ::--

क्योकि स्टेज 1 में हम सूर्य द्वारा प्रदत्त सभी ऊर्जा को और भी तरीको से यूज कर सकेंगे , तो दोस्तो आप खुद सोचिये उस वक़्त हम कितने आधुनिक हो चुके होंगे ,

दोस्तो स्टेज 1 में हम पृथ्वी की और उसके अंदर तक पाई जाने वाली ऊर्जा को भी अपने लिये काम मे ले सकेंगे, 

उदाहरण के तौर पर ::---

क्या आपको पता है Guy's , की सूरज से पड़ने वाली रोशनी जो कि 14000 की पावर से हमे ऊर्जा देती है तो हम उसका सिर्फ 1 % ही पूरे साल में उपयोग कर पाते है ,

दोस्तो इस स्केल के हिसाब से यदि हम स्टेज 1 क्लियर कर लेते है तो पूरी पृथ्वी के मौसम पर भी हमारा कन्ट्रोल होगा ,
हम जिस तरह से चाहेंगे उस तरह से मौसम को बदल सकते है , यानी पूरा एटमॉस्फियर हमारे कन्ट्रोल में होगा , 
मुझे पता है दोस्तो ये सुनने में अजीब लगेगा पर ये मुमकिन है,

बस बात है हमारे द्वारा उस स्टेज तक विकसित होने की।
दोस्तो ये बात सिर्फ स्टेज 1 की थी , 

अब बात आती है

स्टेज 2 की  ::----

दोस्तो इस स्टेज 2 में स्टेज 1 की अपेक्षा हर चीज ओर बड़े तौर पर होगी ,

जैसे हम सूर्य की सम्पूर्ण ऊर्जा को सोलर सिस्टम द्वारा कही भी ट्रांसफर कर सकेंगे ,

जैसा कि दोस्तो आपने कुछ साइन्स से रिलेटेड हॉलीवुड मूवीज में देखा होगा कि एक ऐसा सर्किल उस विकसित सभ्यता द्वारा उस तारे ( सूर्य ) के आस - पास बना दिया जाता है ,

जो कि उस तारे ( सूर्य ) की सम्पूर्ण ऊर्जा को अपने में सोख सकता है दोस्तो ये सूर्य की सम्पूर्ण ऊर्जा सोखने वाला वो घेरा Dayson Structure ( डायसन स्ट्रक्चर ) कहलाता है ,

दोस्तो आप और हम दोनों जानते है कि कई सालों बाद हमारी सभ्यता टाइप 2 यानी स्टेज 2 में पहुँच पाएगी ,

और ये सभ्यता अपने पूरे सौर मंडल पर अपना अधिकार रखेगी और जहाँ चाहे जिस ग्रह पर हम जा सकेंगे , 

क्योकि आज हम मंगल पर सिर्फ उपग्रह या कुछ मशीन भेज पाये है , 

क्योकि हम स्टेज 1 में भी नही है दोस्तो ,
तो सोचिये Friends की स्टेज 2 में हम हमारे सौर मंडल के दूसरे ग्रहों से कई सारे खनिज तक ला सकेंगे ,

और दोस्तो हम दूसरे ग्रहों पर कॉलोनियों को बसा चुके होंगे और हमारे कई अंतरिक्ष यान दूसरे सौर मंडल या गेलेक्सी में नए जीवन की तलाश में निकल चुके होंगे , 

जी हाँ दोस्तो ये सब मुमकिन होगा हमारी स्टेज 2 की सभ्यता में ,

आप ये मत सोचिये की इतनी ऊर्जा का हम करेंगे क्या ?

अरे भाई अभी कौनसा हमे पूरी लाइट्स मिल जाती है , तो जब ऊर्जा सभी को मिलेगी और हम दूसरे ग्रहों की खोज में जाएंगे तो क्या ऊर्जा नही चाहिए ,


अब बात आती है दोस्तो स्टेज 3 की  ::---


जिसमे एस्ट्रोलॉजर ग्रहों को कॉलोनियों के रूप में और फिर दूसरे ग्रह को और फिर तीसरे ग्रह को , ऐसे इस्तेमाल करेगी जैसे कोई एक ग्रह पर रहता है और उसका रिश्तेदार दूसरे ग्रह पर ,

Brahmand Ki Sabhyataye Or Unke Rahasyamai Tathya
Brahmand Ki Sabhyataye Or Unke Rahasyamai Tathya


दोस्तों ये कोई हँसने वाली बात नही है,  ये होकर रहेगा ,

और स्टेज 3 की ये सभ्यता हमारे और साथ ही साथ दूसरे सौर मंडल के सूर्य की ऊर्जा को भी अपने प्रयोग में लेगी , क्योकि वो सभ्यता इतनी विकसित और स्मार्ट हो चुकी होगी कि हम अंदाजा भी नही लगा सकते ,

दोस्तो अब मैं आपको बता देता हूँ कि ये कैसे हो पायेगा क्योकि यहाँ तक पढ़ने के बाद आपके मन मे यही सवाल उठ रहा होगा ,

तो दोस्तो आप खुद सोचिये की जब एलियन्स हमारे यहाँ कई वर्षो की दूरी को कुछ ही समय मे तय करके पहुँच जाते है , तो वो कौनसे लेवल या स्टेज की सभ्यता होगी ,

दोस्तो सवाल हमारे मन मे उठना स्वाभाविक है लेकिन उसे दूसरे पहलू से जोड़कर समझना भी हमारा ही काम है , आप जानते है कि चाहे नासा द्वारा हम लोगों से ये बाते जो एलियन्स से जुड़ी है वो छुपाई जाए , पर सच्चाई आप और हम जानते ही है कि एलियन्स काफी समय पहले से ही हमारे यहाँ आते रहे है ,

दोस्तो उन एलियन्स की वो सभ्यताएं हमारे से कितनी आगे होगी ,

हम ये नही कह सकते कि ब्रह्मांड में हम अकेले ही है , क्या पता वो दूसरी सभ्यताएं उनके सौर मंडल के सूर्य के अलावा दूसरे सूर्य मण्डल के सूर्य की ऊर्जा को भी प्रयोग में ले रहे होंगे  ,



दोस्तो बात समझने की और सारांश में मुझे आपको समझाने की इतनी सी है कि हम अभी कितनी ऊर्जा का प्रयोग करके कितने आविष्कार कर चुके है , और किस स्टेज पर है , और भविष्य के गर्त में हम और कितनी ऊर्जा को प्रयोग में लेकर उन सभी दूसरी सभ्यताओ से मिल सकेंगे जो हमारी ही तरह हमसे मिलने के लिये कितनी तैयारी कर चुकी होंगी ।


दोस्तो आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा , हमे कमेन्ट करके जरूर बताइयेगा ,

ओर हमारे से जुड़ने के लिये आप हमें नीचे दिए गए बॉक्स में ईमेल डालकर हमे सब्सक्राइब भी कर सकते है ,
जिससे आपको ईमेल द्वारा हमारे नये आर्टिकल की जानकारी मिल जाएगी ...


ऐसे कई और आर्टिकल्स मेरी इस वेबसाइट पर मौजूद है आप उन्हें भी पढ़ सकते है ।।


दोस्तो समय निकालकर आपने हमारे आर्टिकल को पढ़ा , उसके लिये धन्यवाद ☺☺☺





Previous
Next Post »

Worlds Famous Person